Exam Status in Hindi

कुछ भी नहीं लिखा बोल के एग्जाम में टॉप करने वालो जनता माफ़ नहीं करेगी.


RESULT के बाद: न तलवारकी धारसे न गोलियोंकी बौछारसे  बंदा डरता हे तो सिर्फ अपने बाप की मार से.


वो एग्जाम की लास्ट मिनिट जब सब को माता आजाती है.


यह एग्जाम के रिश्ते भी अजीब होते हैं सब अपने अपने नसीब होते हैं रहते हैं जो निगाहो से दूर साले वही सवाल कंपल्सरी होते हैं.


याद नहीं कब आखरी बात किताब को देखा था और तुम पास होने की बात कर ते हो.


एग्जाम सच में समय बर्बाद करने के लिए होती हैं.


एग्जाम हैं टेंशन नहीं – पढ़ना हैं मूड नहीं.


वो एग्जाम की राते जब आप सोना नहीं चाहते फिर भी नींद आती हैं.


किताब है नोट्स हैं टाइम है पास होने का हौंसला भी है बस ये साला मूड ही नहीं बनता.


इंसान पढाई दो वजहों से ही करता है या तो शौक से या फिर डर से.


शौक हमें पढ़ाई का है नहीं और डरते हम किसी के बाप से भी नहीं है.


पढाई लिखाई छोड़ दे और नक़ल पर रखना आस रजाई ओढ़ के सो जा ऊपर वाला करेगा पास.


कसम से एग्जाम वाली रात ऐसी नींद आती है जैसी नींद की गोली खा के भी नहीं आती होगी.


आज भी निगाहें उस शख्स को खोज रही हैं जिसने कहा था बस दसवीं कर ले फिर मामला सेट है.


रिजल्ट आने में कुछ महानुभाव सोचते हैं बापू मरेगा तो कमर ए तकिया बाँध लूँगा.


भाई क्रिकेट खेलो देखो अनुष्का शर्मा मिलेगी इस पढाई वढाई से तो काली कलूटी ही मिलेगी.


क्या आप जानते है बुक्स सामने रख कर भी न पढ़ पाने वाली बीमारी का नाम क्या है MobiLE.