Sharabi Status in Hindi

तमाम रातें गुजर गयीं मयखाने में शराब पीते-पीते मगर अफ़सोस न बोतल ख़त्म हुयी न किस्सा ख़त्म हुआ और न ही तेरे दिये दर्द का वो हिस्सा ख़त्म हुआ.


एक घूँट शराब की जो मैंने लबों से लगायी तो आया समझ कि इससे भी कड़वी है तेरी सच्चाई.


हम जीते थे उनका नाम लेकर वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर वो कह गये कि भुला दो हमको हमने पूछा कैसे वो चले गये हाथों में जाम देकर.


पी है शराब मैंने हर गली की दुकान से दोस्ती सी हो गयी है शराब के जाम से गुज़रे है हम कुछ ऐसे मुक़ाम से कि आँखें भर आती हैं मोहब्बत के नाम से.


मोदी अगर ये कह दे कि 4 घंटे बाद दारू नहीं मिलेगी तब देखना लाइन किसे कहते हैं.


मैं और मेरी तन्हाई अक्सर बातें करते हैं पेग छोटा बनाऊं या बड़ा.


मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती.


के आज तो शराब ने भी अपना रंग दिखा दिया दो दुश्मनो को गले से लगवा दोस्त बनवा दिया.


पी है शराब हर गली की दुकान से दोस्ती सी हो गयी है शराब के नाम से गुजरे है हम कुछ ऐसे मुकाम से  की आँखे भर आती है मोहब्बत के नाम से.


शराब चीज़ ही ऐसी है जो न छोडी जाए ये मेरे दोस्ती के जैसी है जो न तोड़ी जाए.


निकलूं अगर मयखाने से तो शराबी ना समझना दोस्त मंदिर से निकलता हर शख्स भी तो भक्त नहीं होता.


तेरी आँखों के ये जो प्याले है मेरी अँधेरी रातो के उजाले है पीता हूँ जाम पे जाम तेरे नाम का हम तो शराबी बे शराब वाले है.


पी है शराब हर गली हर दुकान से एक दोस्ती सी हो गई है शराब के जाम से.


नशा हम करते हैं इलज़ाम शराब को दिया जाता है मगर इल्ज़ाम शराब का नहीं उनका है जिनका चेहरा हमें हर जाम में नज़र आता है.


अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा जिसका जो वाकी है वो भी हिसाब कर दूंगा और मुझे इस गिलास में ही कैद रख वरना पूरे शहर का पानी शराब कर दूंगा.


इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ.


मत कर हंगामा पीकर हमारी गली में हम तो खुद बदनाम है तेरी मोहब्बत के नशे में.


काश हमें भी कोई समझाने वाला होता तो आज हम इतने नासमझ ना होते काश कोई इश्क का जाम पिलाने वाला होता तो आज हम भी शराब के दीवाने ना होते.


मदहोश कर देता है तेरे ये देखने का अंदाज़ और लोग सोचते हैं कि हम पीते बहुत है.


पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर जलील बादल का रंग देख के नीयत बदल गई.